जल प्रदूषण क्या है Water Pollution In Hindi

Water Pollution In Hindi

Water Pollution In Hindi : जल ही जीवन है। जल के बिना इस पृथ्वी पर जिव सृस्टि शक्य नहीं है। पृथ्वी समुद्रो से भरी पड़ी है, जब की पिने का पानी बहुत कम है। और ऐसे में जल प्रदूषण हो रहा है। इसलिए हमे पानी के महत्व को समजना चाहिए। हो रहे जल प्रदूषण क्या है और के कारण जान के उसके निवारण निकालने चाहिए। हर ,संभवित कोशिस हमे जल के प्रदूषण को रोकने के लिए करनी चाहिए।

Water Pollution In Hindi
Water Pollution In Hindi

जल प्रदुषण क्या है

शुद्ध जल में अशुद्ध तत्वों मिलने की वजह से जल पिने लायक और जरुरी कार्यो के लिए उपयोगी ना होना उसे प्रदूषित जल कहते है, और ऐसे तत्वों से मिलकर जल प्रदूषित होता है उसे जल प्रदुषण कहते है। प्रदूषित पानी जिव सृस्टि के लिए खतरारूप है। ऐसा पानी पिने की वजह से प्राणियों में और मनुष्यो में कई तरह के रोग फैलने लगते है, और जीवसृस्टि खतरे में पड़ सकती है।

पानी अमृत समान है। सुबह से लेकर साम तक हमे पानी की आवश्यकता रहती है, पूरी दिनचर्या के लिए हमे पानी की जरुरत पड़ती है। ऐसे में दोस्तों जल को शुद्ध रखना अति आवश्यक है। क्यों की मेने पहले ही बताया अशुद्ध पानी पिने से और जरुरी कार्यो के लिए उपयोग में लेने से जींवसृस्टि खतरे में आ सकती है। इसलिए पानी के होने वाले प्रदूषण को रोकना जरुरी है।

पिने के साथ साथ पानी का उपयोग हमारी दिनचर्या की क्रियाओं के लिए, व्यवसाय में, इंडस्ट्रीज में, फैक्ट्रीज, खेती करने के लिए और पसु पक्षिओ के लिए उपयोग होता है।

पानी का प्रदूषण होने के बहुत सारे कारण है, और इन कारणों से होने वाले पानी के प्रदूषण के निवारण भी है। बस हमे उन कारणों को जानकर पानी के प्रदूषण को रोकने के यथा संभव प्रयास करने चाहिए। तभी जाकर हम जीवन के लिए अतिमूल्य पानी जल को प्रदूषण Water pollution से मुक्त कर सकते है।

यह भी पढ़े

जल प्रदूषण के कारण

हवा हो, ध्वनि हो या पानी प्रदूषित होने के लिए उसके पीछे कुछ न कुछ कारण जवाबदार होते है। जिसके कारण प्रदूषण में बढ़ावा होता है। अगर हम पानी के प्रदूषण को रोकना भी चाहे तो सबसे पहले हमे पानी के प्रदूषण के करने की जानकरी होनी अति आवश्यक है।

पानी के प्रदूषण भी अलग अलग प्रकार के होते है। एक तो ऐसे प्रदूषण जिसे हम कुछ प्रक्रियाओं के साथ पानी को सुध्ध और पिने लायक बना सकते है। जैसे की घर काम में उपयोग में लिए हुए पानी। इसके आलावा कुछ प्रदूषण ऐसा होता है जिसका शुध्दिकरण बहुत मुश्किल है या सुद्धीकरण संभव नहीं है। जैसे की उद्योगिक प्रदूषित पानी जो सीधा पाइप के द्वारा नदियों में मिलता है और यह नदी का दूषित पानी समुद्रो को भी दूषित करता है।

उद्योगिक कारण

उद्योगिक प्रदूषण सबसे ज्यादा प्रदूषण फैलाने वाला घटक बन गया है। industires के द्वारा water pollution के साथ साथ Air pollution भी ज्यादा प्रमाण में होता है। हानिकारक केमिकल युक्त पानी को छोड़ा जाता है जिसका कलर भी सुध्ध पानी से अलग होता है।

इंडस्ट्रीज की सही पानी छोड़ने की और शुद्ध करने की पद्धति न होने की वजह से वह केमिकल युक्त पानी पाइप के जरिये नदियों बह जाता है। और केमिकल युक्त पानी शुद्ध नदी के पानी को गन्दा कर देता है। यह पानी समुद्र में चला जाता है इस तरह समुद्र का पानी भी दूषित हो सकता है।

नाले का पानी

घर काम में उपयोग में लिया हुआ पानी, अपना व्हीकल धोया हुआ पानी, और भी अन्य कार्यो के लिए वापरा हुआ पानी दूषित हो जाता है। हर जगह रण जैसा विस्तार नहीं होता है की पानी जमीन पर डालने से सुख जाय. लेकिन ऐसे दूषित पानी को नाले द्वारा निकाल किया जाता है। यह पानी नाले के द्वारा सुध्ध नदी या तालाब तक हो सकता है।

गन्दा पानी जो chemicals युक्त है। नाले के द्वारा शुद्ध नदी के पानी या तालाब को दूषित करता है।

खनन क्रियाओ से होने वाला जल प्रदूषण

जमीन मेसे खनन प्रक्रिया द्वारा निकले जाते अनेक खनिज पदार्थ के कच्चे माल के साथ हानिकारक तत्व भी होते है। खनिज पदार्थो के साथ के ये हानिकारक तत्व पानी में मिलने की वजह से पानी प्रदूषित हो सकता है। जो अनेक रोगो की जड़ है।

Oil leakage के कारण जल प्रदूषण

Water Pollution In Hindi
Water Pollution In Hindi

अचानक होने वाले आयल लीकेज भी प्रदूषण फैलाने में महत्व का भाग रखते है। जैसे की समुद्र के जहाज मेसे आयल लीकेज होना। यह आयल समुद्री जीवो के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। जैसे की मच्छी और अन्य समुद्री जिव के लिए।

कृषि से होने वाला जल प्रदूषण

खेती करने की सही सिस्टम ना होने की वजह से जल का प्रदूषण बढ़ने की सम्भावनाये बढ़ जाती है। सिंचाई के दरमियान खेत में कुछ ज्यादा ही पानी छोड़ दिया जाता है। जिसमे कई तरह के खेत में उपयोग किये जाने वाले रासायनिक खाद मिलते है। बचा हुआ थोड़ा बोहत रासायनिक खाद युक्त पानी जलाशयो से मिलने की वजह से वह पानी दूषित होता है।

कई बेक्टेरिआ, जंतु जो फसल को नुकसान पहुंचाते है। उन्हें मारने के लिए रासायनिक दवाओं का उपयोग किया जाता है। जो बारिश के पानी में मिलने की ज्यादा सम्भावनाये रहती है। बारिश का पानी की बड़े जलाशयों में और नदियों में मिलता है।

प्लास्टिक से जल प्रदूषण

Water Pollution In Hindi
Water Pollution In Hindi

जीवन शैली को आसान बनाने के लिए प्लास्टिक का उपयोग बड़ी मात्रा में बढ़ा है। जैसे की बॉटल्स, प्लास्टिक बैग्स, pens, और भी जरुरी चीज वस्तु प्लास्टिक से बनी होती है। लेकिन यह प्लास्टिक उपयोग करने के बाद फेका जाता है। जो हवा के जरिये या किसी अन्य कारण से शुद्ध जलाशयो में प्रवेश होता है। यह प्लास्टिक कचरा पानी को प्रदूषित करता है। छोटे छोटे प्लास्टिक के टुकड़े वन्य जीवो के पेट में पानी पिने के दरमियान जा सकते है।

ग्लोबल वार्मिंग से जल प्रदूषण

ग्रीन हाउस गैसेस के कारण पृथ्वी के तापमान में सतत बढ़ावा हो रहा है। जो ग्लोबल वार्मिंग है। ग्लोबल वार्मिंग के कारण बढ़ने वाली गर्मी पानी का तापमान बढ़ा सकती है। जिसके कारण जलाशयो के जिव के मृत्यु हो सकते है। और जल का प्रदूषण बढ़ सकता है।

Global warmig in hindi

प्रदूषण के प्रकार

भूजल प्रदूषण

नदियों के पानी के साथ साथ भूमिगत जल भी हमारे सुध्ध पानी का बड़े भाग का हिस्सा है। ग्रामीण विस्तारो में खेती करने के लिए और अन्य उपयोग के लिए भूजल का उपयोग किया जाता है। इंडस्ट्रियल विकाश के साथ साथ भूजल का उपयोग बढ़ने लगा है। ऐसे में भूजल प्रदूषित होने की वजह से पानी भाग का हिस्सा प्रदूषित हो सकता है। एक बार प्रदूषित होने पर भूजल अनुपयोगी हो सकता है।

पृथ्वी की धरातल के पानी का प्रदूषण

समुद्र, झील, नदिया, तालाब यह सब पानी के स्त्रोत पृथ्वी के धरातल पर स्थित है। समुद्रो को छोड़ के मीठा पानी जो पिने लायक है, वह पृथ्वी पर बहुत कम है। ऐसे में नदियों के और अन्य पिने लायक जलाशयों के प्रदूषण की वजह से पानी के वजूद में खतरा हो सकता है। प्रदूषित पानी के उपयोग से कई तरह के रोग होने की सम्भावना होने लगती है।

समुद्रीय जल का प्रदूषण

पृथ्वी का बड़े भाग में समुद्र ही है। समुद्र का प्रदूषण उसकी surface पर से या दूषित प्रदूषित नदियों की वजह से होता है। इसके आलावा oil लीकेज भी प्रदूषण करता है। समुद्री जल में हानिकारण रसायण, खनिज तत्वों, प्लास्टिक और भी अन्य हानिकारक तत्व समुद्री जीवो को मुसकेली पहुंचाते है।

जल प्रदूषण से पड़ने वाले असर

मानवीय जीवन पर

जीवन जीने के लिए पानी का उपयोग पिने से लेकर हमारे हर जरूरियात के लिए जरुरी होता है। ऐसे में दूषित पानी हमे अच्छे से नुकसान पहुंचा सकता है। दूषित पानी पिने कई तरह के रोग होते है। हर साल, दूषित पानी लगभग 1 बिलियन लोगों को बीमार करता है। उद्योगिक विस्तार के नजदीक रहने वाले लोग दूषित पानी का जल्दी मात्रा में शिकार होते है।

वायरस, बक्टेरिया और हानिकारक तत्वों के साथ पेट में गया हुआ पानी कई तरह की बीमारी फैला सकता है जैस की cholera, typhoid. कई विस्तारो में पानी की अछत होने की वजह से दूषित पानी भी पिने के लिए मजबूर हो जाते है।

पशु और पक्षी के स्वास्थ्य और जीवन पर

मनुष्य की तरह ही हर जिव को जीने के लिए पानी की आवश्यकता रहती है। वन्य जिव पानी के जलाशयों के माध्यम से पानी ग्रहण करते है। लेकिन दूषित जलाशय उनके स्वास्थ्य पर भी हानि पहुंचा सकते है। समुद्र में रहने वाले समुद्री जिव भी पानी के प्रदूषण के कारण मर सकते है। जिसकी वजह से और भी ज्यादा पानी का प्रदूषण हो सकता है।

Importance of water conservation

जल प्रदूषण को कैसे रोके

Water Pollution In Hindi
Water Pollution In Hindi

सबसे ज्यादा दूषित पानी उद्योगिक कार्यो के लिए उपयोग में लिया हुआ पानी होता है। जिसमे हानिकारक तत्व होते है। कुछ इंडस्ट्रीज के पानी बहुत ज्यादा प्रदूषित होते है, तो कुछ इंडस्ट्रीज के पानी कम मात्रा में प्रदूषित होते है। ऐसे में इस तरह के पानी का निकाल योग्य तरीके से किया जाना चाहिए। या फिर उन्हें फिरसे रीसायकल कर के उपयोग में लेना चाहिए।

ऐसे में शुद्ध पानी के जलाशयो को दूषित होने से बचाने के लिए हमे दूषित पानी को शुद्ध जलाशयों में मिलने से रोकना होगा। दूषित पानी को कृत्रिम साधनो से पुनः सुध्ध करके उपयोग में लेना चाहिए।

कृषि विस्तारो में फसल, पेड़ या पोधो पर उपयोग किये हुए रासायनिक खाद और अन्य पदार्थों को बारिश के समय में पानी के साथ शुद्ध जलाशयों में ना जाय इसके पर विचार विमर्श करने चाइये।

ग्लोबल वार्मिंग की वजह से भी जल के प्रदूषण में बढ़ावा होता है, ऐसे में हमे ग्रीनहाउस गैसेस रोकने के उपाय करने जरुरी है।

पानी के प्रदूषण को रोकने के लिए लोगो को जागृत करने चाहिए। बड़े कार्यकर्म दरमियान लोगो दूसरी सूचनाओं के साथ साथ पानी के प्रदूषण को रोकने के लिए भी जागृत करने चाहिए। आज के सोशल मीडिया जमाने में हम खुद पानी के प्रदूषण को रोकने के लिए होने वाले नुकसान के वीडियो लोगो के साथ साझा कर सकते है।

प्लास्टिक का विघटन बड़ी मुश्किल से होता है। ऐसे में पानी के जलाशयों में प्लास्टिक मिलने से सालो साल रहता है। इसलिए समुद्री विस्तारो में, और अन्य शुद्ध पानी के जलाशयों के पास में प्लास्टिक पानी में न जाय उसके लिए कुछ उपाय करने चाहिए।

Summary

ग्लोबल वार्मिंग की तरह ही जल प्रदूषण भी बड़ी समस्या है जिसे समय के साथ रोकना जरुरी है। पानी का बचाव तो जरुरी है ही उसके साथ साथ पानी के जलाशयों में होने वाले प्रदूषण को भी रोकना जरुरी है। दोस्तों, अगर अपने आसपास के जलाशयों में किसी कारण से प्रदूषण फेल रहा है, तो उसे रोकने के जरूर उपाय करे।

इस आर्टिकल के जरिये जल प्रदूषण क्या है Water pollution in hindi और उसके कारणों और निवारण के उपायों को विस्तार से हमने जाना है। आप इसे स्पीच बनाकर भी स्कूल और college में पानी के प्रदूषण को रोकने के लिए बोल सकते है।

यह जानकारिया भी जरूर पढ़िए

Similar Posts

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments