राज्यपाल की नियुक्ति कौन करता है ? योग्यता और कार्यप्रणाली

Rajyapal Ki Niyukti Kaun Karta Hai

Rajyapal Ki Niyukti Kaun Karta Hai

Rajyapal Ki Niyukti Kaun Karta Hai : मुख्यमंत्री के साथ साथ राजपाल का नाम भी लिया जाता है। मुख्यमंत्री का चुनाव तो पब्लिक करती है राजपाल के चुनाव तो होते नहीं फिर राजयपाल की नियुक्ति कौन करता है ? अगर आपके पास भी यही सवाल है तो आज आप इस सवाल का जवाब प्राप्त करने वाले है

सवाल: राजयपाल की नियुक्ति कौन करता है ?

जवाब: राज्य के राजयपाल की नियुक्ति राष्ट्रपति के द्वारा की जाती है।

आपको अपने सवाल राजयपाल की नियुक्ति कौन करता है उसका जवाब मिल गया होगा, लेकिन राजयपाल के बारेमे जानने के लिए और भी बोहत कुछ है जो आपके अपने जनरल नॉलेज के लिए जानना बहुत जरुरी है। तो चलो में ऐसी कुछ जानकारिया आपके साथ शेयर करता हु।

राज्यपाल के बारेमे

भारतीय संविधान के भाग-6 में अनु– 153 से 167 तक राज्य कार्यपालिका के विषय में जानकारी दी गयी है। राज्यपाल राज्य का औपचारिक प्रमुख होता है और राज्य की सभी कार्यवाहियाँ राजयपाल के नाम पर की जाती हैं। प्रत्येक राज्य का राजयपाल देश के राष्ट्रपति के द्वारा चुना जाता है। राज्यपाल का कार्य समय 5 साल का होता है। लेकिन वह सेवानिवृत होने के लिए कार्यप्रणाली के समय से पहले भी इस्तीफा दे सकता है।

यह भी जरूर पढ़े

राजयपाल बनने के लिए योग्यता क्या है ?

  • राज्यपाल बननें के लिए उमेदवार भारत का नागरिक होनाजरुरी है।
  • उसकी आयु 35 वर्ष की पूर्ण हो चुकी हो।
  • वह राज्य सरकार या केन्द्र सरकार या इन राज्यों के नियंत्रण के अधीन किसी सार्वजनिक उपक्रम में लाभ के पद पर न होना चाहिए।
  • वह राज्य विधानसभा का सदस्य चुने जाने के योग्य हो।

राजयपाल की सैलरी

राज्यपाल के महीने का वेतन यानि सैलरी 350000 रुपये होती है। इसके आलावा एक से अतरिक्त राजयपाल कि सैलरी राष्ट्रपति द्वारा प्रदान की जाती है।

राजयपाल का कार्य

  • राज्य के लिए राजयपाल का स्थान ठीक उसी तरह होता है जिस तरह देश के लिए राष्ट्रपति का होता है।
  • राज्यपाल किसी दोषी की सजा में फेरफार कर सकता है। सजा में परिवर्तन या पूर्ण रूप से रोक भी लगा सकता है।
  • कुछ परिश्थितिओ में राज्यपाल बिना किसी की मंत्री के सलाह के बिना अपने सूज बुज अनुसार कार्य करता है।
  • राष्ट्रपति को जो अधिकार संसद में प्रदान किये जाते है वैसे ही अधिकार राजयपाल को भी विधानसभा के लिए दिए जाते है।
  • आपातकालीन परिश्थिओ में राज्यपाल राष्ट्रपति के आदेशानुसार कार्य करता है।
  • मुख्यमत्री चुनाव के दरमियान किसी भी पक्ष को बहुमत ना मिलने पर राज्यपाल अपने विशेष अधिकार से मुख्यमंत्री का चयन करता है।
  • राजयपाल के हस्ताक्षर के बिना कोई भी राज्य के किसी भी कानून में बदलाव नहीं हो सकता।
  • किसी भी प्रस्ताव को विधानसभा में पास होने के बाद राज्यपाल के हस्ताक्षर के लिए भेजा जाता है।
  • राज्य का वार्षिक राज्य बजट राज्यपाल की सहमति के बाद ही विधानमंडल में पेश किया जाता है।
  • राजयपाल मुख्यमत्री के निर्देश अनुसार मंत्रिपरिषद के सदस्यों को बर्खास्त कर सकता है।
  • राज्यपाल को देश के राष्ट्रपति द्वारा पडोशी राज्य का अतिरिक्त कार्य दिया जा सकता है।
  • राजयपाल राज्य के मुख्यमंत्री से कार्य की गतिविधिओ की जानकारी मांग सकता है।
  • राजयपाल राज्य की स्थिति के बारे में राष्ट्रपति को रिपोर्ट भेजता है। राज्यपाल की रिपोर्ट के आधार पर राष्ट्रपति अनुच्छेद 356 के तहत एक राज्य में आपातकाल लगा सकता है।

Conclusion

Rajyapal Ki Niyukti Kaun Karta Hai इस सवाल का जवाब आपको इस आर्टिकल के माध्यम से मिल गया होगा की किसी भी राज्य के राजयपाल की नियुक्ति राष्ट्रपति के द्वारा की जाती है। मेने यहाँ नियुक्ति आलावा भी कुछ जानकारिया साझा की है जो आपके जनरल नॉलेज के लिए जरुरी है।

यह भी पढ़िए

Similar Posts

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments