Mitra Ko Patra In Hindi मित्र को पत्र कैसे लिखे

Mitra Ko Patra

Mitra Ko Patra In Hindi : पत्र लेखन दो प्रकार के होते हैं। औपचारिक पत्र और अनौपचारिक पत्र। माता-पिता, मित्र, भाई, बहन या अन्य रिश्तेदारों को एक पत्र भेजना उनके अनौपचारिक पत्र में शामिल है। मित्र को पत्र लिखना एक अनौपचारिक पत्र है। आज, मैं एक मित्र को पत्र लिखने का तरीका बताने जा रहा हूं How to write a letter to a friend in hindi.

Mitra ko patra in hindi
Mitra Ko Patra

दोस्तों, इस तरह के पत्र लेखन की कई बार हमारे जीवन मे आवश्यकता होती है। यदि आप अध्ययन (Study) कर रहे हैं, तो परीक्षा में पत्र लेखन भी अक्सर पूछा जाता है। अपने पत्र लेखन कौशल की कमी के कारण आप परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त नहीं कर सकते हैं। इसलिए, पत्र लेखन सीखना महत्वपूर्ण है।

यह भी पढ़े

परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए, एक पत्र को अच्छे प्रारूप में और व्याकरण की गलतियों के बिना लिखना होता है। यदि परीक्षा में, प्रश्न “एक दोस्त के लिए एक पत्र लिखने” पर लिखा जाता है तो पत्र कैसे लिखना है? मैं आपको सभी जानकारी उदाहरणों के साथ देने जा रहा हूं।

दोस्त को letter लिखने का मुख्य उद्देश्य भावनात्मक विचारों को साझा करना, आवश्यक जानकारी भेजना, कुछ अनुमति प्राप्त करना, शुभकामनाएं देना या अन्य जानकारी भेजना है।

Mitra Ko Patra

मित्र को पत्र कैसे लिखें

सबसे पहले, हमें पत्र की रचना (format) को समझना होगा। जिसकी मदद से आपको दोस्तों को पत्र लिखने में बड़ी आसानी होगी।

Read Also- Email kaise likhe

मित्र को लेख लिखने का प्रारूप (फॉर्मेट)

पता …… ..
तारीख……………

प्रिय मित्र

पहला पैराग्राफ (परिचय)
परिच्छेद (मुख्य विषय, आपके विषय पर आधारित)
अंतिम पैराग्राफ (निष्कर्ष)

तुम्हारा सबसे अच्छा मित्र
(आपका नाम)

पता
पत्र कहाँ से, किस समय में पत्र लेखन में विवरण डाला जाना आवश्यक है। जिसे हम लेटर के राइट या टॉप लेफ्ट साइड पर लिख सकते हैं।

तारीख
पते के बाद एक तारीख लिखनी चाहिए। हमें तारीख एड्रेस के नीचे लिखना है।

पहला पैराग्राफ
हम पहले पैराग्राफ को परिचयात्मक पैराग्राफ भी कह सकते हैं। यहां आप अपना परिचय दे सकते हैं और अपनी खुशी व्यक्त कर सकते हैं। मतलब कि आप अपने दोस्त को लिख सकते हैं कि मुझे आशा है कि आप अच्छी तरह से हैं और मुझे याद कर रहे होंगे। इस पर आप 3 या 4 वाक्य में अपनी खुशी व्यक्त कर सकते हैं।

मुख्य भाग अनुच्छेद
यह पर पैराग्राफ एक हो सकता है और एक से अधिक हो सकता है। यह इस पर आधारित है कि आप किस विषय पर लिख रहे हैं और आपकी लेखन क्षमता कितनी है। यहां हमें मुख्य बातें लिखनी होंगी। जैसे बुरी खबर देना या अच्छी खबर देना।

अंतिम अनुच्छेद
इस पैराग्राफ को हम निष्कर्ष पैराग्राफ भी कह सकते हैं। आप अंतिम पैराग्राफ में अपनी सकारात्मक भावनाओं को व्यक्त कर सकते हैं। आप इस पैराग्राफ को 3 या 3 या 4 वाक्य के साथ भी पूरा कर सकते हैं।

आखिरी में आप अपने रिश्ते को अपने दोस्त से जोड़कर अपना नाम लिख सकते हैं। जैसे की “तेरा प्रिय दोस्त”

Mitra Ko Patra लिखने की मार्किंग सिस्टम (एग्जाम के लिए)

मैं पत्र लेखन की मार्किंग प्रणाली की बताने जा रहा हूं। आपकी परीक्षा में अंकन प्रणाली भी भिन्न हो सकती है। जो आप अपने स्कूल से जान सकते हैं।

Marking systemMarks
Format (पारुप)
1.भेजने वाले का पता
2. तारीख
(Here you can also write address of reciever, subject etc)
1
मुख्य अनुच्छेद 3
लिखने के विचार, व्याकरण 2
Total Marks6
Mitra Ko Patra

मित्र को पत्र (letter) लिखने के उदाहरण

उदाहरण के माध्यम से, आप मित्र से पत्र लेखन को बहुत आसानी से समझ पाएंगे। मैं यहाँ मित्र को लिखा गया पत्र पे आधारित उदाहरण लिख रहा हूँ जो आप पढ़ सकते हैं।

उदाहरण 1

हर्ष प्रजापति
भयंदर, मुंबई
नवघर रोड
तारीख 21 अप्रैल

मेरे प्रिय मित्र राकेश

मैं तेरा सबसे अच्छा दोस्त हर्ष। मुझे उम्मीद है कि वहा सबकुछ कुशल और अच्छा होगा। तेरे माता और पिता भी ठीक होंगे मैंं भी यहां मुंबई में एक अच्छा जीवन जी रहा हूं।

मेरे भाई राहुल ने मुजे सूचित किया कि तूू डॉक्टर बन गया हैं। तु अपनी महेनत के कारण डॉक्टर बना है। इसलिये में तुजे हार्दिक सुभकामनाएँ दे रहा हू। अपने डॉक्टर के काम को अच्छी तरह से करे और और भी अधिक प्रगति करे एसी इश्वर से प्रार्थना।

अपनी मां और पिता से नमस्कार कहना और समय निकाल के मिलने जरुर आना।

तेेरा प्यारा दोस्त
हर्ष
Mitra Ko Patra

उदाहरण 2

रायपुर, श्रीनगर
फ्लैट नं 50 बी
दिनांक 22 अप्रैल

प्रिय दिनेश

मे तेरा दोस्त मोक्ष, तेरी याद के साथ साथ यह पत्र लिख रहा हू। मुझे उम्मीद है कि वहां सबकुछ कुशल और अच्छा होगा। माता और पिता भी ठीक होंगे। यहाँ रायपुर में एक अच्छा जीवन जी रहा हूँ।

मुझे पता है कि तेरा जन्मदिन नजदीक आ रहा है। लेकिन उस समय मैं तेरे जन्मदिन पर मिलने नहीं आ सकता। इसलिए मैं पत्र के माध्यम से जन्मदिन की शुभकामनाएं दे रहा हूं। मैं तेरा जीवन लम्बा हो एसी ईश्वर से प्रार्थना करूंगा।

अपनी मां और पिता से नमस्कार कहना। आने और मिलने का कुछ समय निकालें। और मुझे अपने जन्मदिन पर याद करना मत भूलना

तेरा प्यारा दोस्त
मोक्ष
Mitra Ko Patra

उदाहरण 3

हरी सिंदे
हरी नगर
मलाड ईस्ट, मुंबई
दिनांक 13 अक्टूबर

प्रिय तुषार

में तेरा बचपन का सबसे अच्छा दोस्त हरी तुजे प्यार भरा पत्र अपने हाथो से लिख रहा हु। मुझे मालूम है बचपन के जैसे अभी भी मौज और मस्ती में अपनी मस्त जिंदगी को जी रहा होगा।

मुझे आरती ने बताया की तेरी शादी कुछ दिनों बाद फिक्स हुई है। और तूने मुझे आरती के द्वारा अपनी शादी के लिए आमंत्रित भी किया है। में बहुत खुश हु की तेरी शादी होने वाली है। लेकिन मुझे इस बात का भी दुःख है की तेरी शादी मे, में उपस्थित नहीं हो पाउँगा।

मुझे कंपनी के काम से गोवा जाना है। इस वजह से में तेरी शादी में नहीं आ सकता। तुजे शादी की ढेर सारी सुभकामनाये।

तेरा प्रिय दोस्त
हरी सिंदे
Mitra Ko Patra

उदाहरण 4

गोकुलधाम सोसाइटी
फ्लैट नंबर 56
दिनांक 10 अप्रैल

प्रिय वंदना

मैं तेरी सबसे अच्छी दोस्त आरती हूं। मुझे तेरी याद आ रही है इसलिए मैं यह पत्र लिख रही हूं। उम्मीद है की तू मजे में होंगी और मुझे जरूर याद कर रही होगी।

मुझे खबर मिली है कि गाड़ी चलाते समय तेरा नार्मल एक्सीडेंट हो गया था। और हाथ में हल्की चोट आई थी। मैं तुम्हें अपनी बहन की तरह मानती हूं। मैं बहुत चिंतित थी इसलिए पत्र लिखना पड़ा। कृपया बहुत सावधानी से गाड़ी चलाएं। जब हाथ पर यह चोट ठीक हो जाती है, तो सबसे पहले ड्राइविंग स्कूल में जाना और परफेक्ट ड्राइविंग सीख लेना।

मैं भगवान से प्रार्थना करूंगा कि आपके हाथ पर लगी चोट जल्द ही ठीक हो जाए। और अपना ख्याल रखना।
आपकी शुभकामनाएँ

आरती
Mitra Ko Patra

Mitra ko Patra Likhne Ke Tips जरूर फॉलो करे

मित्र को पत्र लिखते समय, आपको अपना पता और तारीख ऊपर बाईं या दाईं ओर लिखना चाहिए। यह लिखने से, आपके मित्र को यह जानकारी मिल जाएगी कि पत्र कहाँ और कब लिखा गया है।

पत्र लिखते समय नमस्कार लिखिए। एक प्यारे दोस्त की तरह। सभी के लिए अभिवादन अलग हो सकता है। यदि आप अपने पिता को पत्र लिख रहे हैं, तो आप मेरे आदरणीय पिता, सम्मानित पिता जैसे अभिवादन लिख सकते हैं। मित्र के लिये “प्रिय मित्र” पत्र लेखन में एक लोकप्रिय अभिवादन है।

सीमित पैराग्राफ में एक पत्र लिखें। अपने पत्र को 3 या 4 पैराग्राफ में पूरा करें। पत्र में मुख्य विषयों को शामिल करें। जैसे कि खुशखबरी, और महत्वपूर्ण जानकारी।

पत्र-लेखन करते समय, पैराग्राफ के बीच अंतर रखें। इससे आपके दोस्त को पढ़ने में आसानी होगी। यदि आप किसी परीक्षा के प्रश्न में किसी मित्र को पत्र लिख रहे हैं, तो पैराग्राफ के बीच अंतर बहुत महत्वपूर्ण है।

व्याकरण में गलती न करें। क्योंकि प्रत्येक शब्द के अलग-अलग अर्थ हो सकते हैं। इसलिए पत्र लेखन के बाद व्याकरण को फिर से जांचें।

लास्ट में इमोशनल लाइन्स जरूर लिखें। क्योंकि दोस्त को स्नेह दिखाना जरूरी है। आप अंतिम पैराग्राफ में लिख सकते हैं।

सारांश

परीक्षा में कई बार मित्र को पत्र लिखने पर एक प्रश्न पूछा जाता है। इसलिए आपको पत्र लेखन के कौशल की आवश्यकता है. इस आर्टिकल मे मेने Mitra ko patra कैसे लिखे, How to write letter to a friend in hindi को विस्तारित से समजाया है। ऊपर दिए गए उदाहरणों से आप अच्छे से मित्र को पत्र कैसे लिखे वह समज सकते है। लिखने के कौशल के आधार पर बहुत सारी जानकारिया आपको इस वेबसाइट में मिल जायगी। आप केटेगरी में देख सकते हैं।

धन्यवाद

यह भी जरुर पढे

Similar Posts

4 Comments

  1. Moksh Prajapati says:

    Visitor Rating: 10/10

  2. Swata Roy says:

    Parivar ke bare mein batate Hue Mitra ko Patra likhe

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *