|

Bhav Vachak Sangya Kise Kahate Hain / Example

Bhav Vachak Sangya

Bhav Vachak Sangya : भाव वाचक संज्ञा, संज्ञा का ही एक प्रकार है। व्याकरण के महत्व के टॉपिक संज्ञा का भेद भाव वाचक संज्ञा के बारेमे आज में उदाहरण सहित समझाने जा रहा हु। जो आपको बहुत हेल्पफुल होगा।

Bhav Vachak Sangya
Bhav Vachak Sangya

Bhav Vachak Sangya Kise Kahate Hain

परिभाषा : ऐसे शब्द जिनसे हमें भावना का बोध होता हो, उन शब्दों को भाव वाचक संज्ञा कहते हैं। यानी वह शब्द जो किसी पदार्थ या फिर चीज का भाव, दशा या अवस्था का बोध कराते हो, उन्हें भाववाचक संज्ञा कहते हैं।

Bhav Vachak Sangya जिसे हम छू नहीं सकते केवल अनुभव कर सकते हैं और इस संज्ञा का भाव हमारे भावों से सम्बन्ध होता है, जिनका कोई आकार या फिर रूप नहीं होता है।

जैसे की – मानवता, मिठास, खटास, धर्म, थकावट, जवानी, मोटापा, मित्रता, सुन्दरता, बचपन, परायापन, अपनापन, बुढ़ापा, प्यास, भूख मुस्कुराहट, नीचता, क्रोध, चढाई, उचाई, चोरी वगेरा।

Bhav Vachak Sangya Example

  • हमारा रिस्ता मजबूत हो रहा है — इसमें रिस्ता शब्द हमारे भाव को दर्शा रहा है, इसलिए यहां पर भाववाचक संज्ञा है।
  • ईमानदारी से बड़ा कोई धर्म नहीं — इसमें ईमानदारी शब्द एक भावना प्रकट कर रहा है, इसलिए यहां पर ईमानदारी भाववाचक संज्ञा का उदाहरण है।
  • मेरा पूरा बचपन नानी के घर में बिता है– इसमें बचपन शब्द हमारे बचपन से सम्बन्ध रखता है अर्थात् बच्चे का भाव होने का बोध करा रहा है, इसलिए यहां पर बचपन में भाववाचक संज्ञा है।
  • इस इमली में बहुत ज्यादा खट्टास हैं। – इस वाक्य में खट्टास इमली खट्टी है ऐसा बोध कराता है इसलिए ये भाववाचक संज्ञा हैं।
  • तुम्हारे से मिलने के बाद हमारे स्कूल की यादें ताजा हो गई है। — इसमें यादें शब्द से भाव का बोध हो रहा है, इसलिए यहां यादें में भाववाचक संज्ञा है।
  • बगीचे में फूल सुंदर है — यहां पर सुंदर बगीचे के सुंदर होने का बोध करा रहा है, इसलिए यहां पर सुंदर में भाववाचक संज्ञा है।
  • मेरी लम्बाई मेरे दोस्त से अधिक है। — इसमें मेरे लम्बे होने का बोध हो रहा है, इसलिए यहां पर लम्बाई में भाववाचक संज्ञा है।
  • भारत एक अमीर देश है। — इसमें भारत के अमीर होने का बोध हो रहा है, इसलिए यहां पर अमीर में भाववाचक संज्ञा है।
  • गीता की आवाज बहुत मिठास से भरी है। — यहां पर मिठास शब्द से आवाज के मीठेपन का बोध होता है, इसलिए यहां पर मिठास में भाववाचक संज्ञा का समावेश है।
  • मैं तुम्हे बहुत प्रेम से रखूँगा — इस वाक्य में प्रेम शब्द हमारे भाव का बोध करा रहा है, इसलिए यहां पर प्रेम में भाववाचक संज्ञा है।
  • मैं बहुत खुस हूँ। — इस में मेरे खुस होने का बोध हो रहा है, यहां पर खुश भाववाचक संज्ञा का उदाहरण है।

भाववाचक संज्ञा कैसे बनती हैं

जातिवाचक संज्ञा, सर्वनाम, क्रिया, संज्ञा, विशेषण, अव्यय में ता, आस, पा, अ, पन, ई, आव, वट, य, हट, त्व आदि लगाकर भाववाचक संज्ञा में बदला जाता है।

  • जातिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा
  • सर्वनाम से भाववाचक संज्ञा
  • संज्ञा से भाववाचक संज्ञा
  • क्रिया से भाववाचक संज्ञा
  • विशेषण से भाववाचक संज्ञा
  • अव्यय से भाववाचक संज्ञा

जातिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा

मानवमानवता
मनुष्यमनुष्यता
दूतदौत्य
नारीनारीत्व
भाईभाईचारा
युवकयौवन
भाईभाईचारा
दासदासत्व
इंसाnइंसानियत
राष्ट्रराष्ट्रीयता
ब्राह्मणब्राह्मणत्व
प्रभुप्रभुता
पात्रपात्रता
मातामातृत्व
जातिजातियता
बच्चाबचपन
घरघरेलू
शैतानशैतानी
गुरुगुरुत्व
पुरुषपुरुषत्व

सर्वनाम से भाववाचक संज्ञा

अहंअहंकार
निजनिजत्व
स्वस्वत्व
परायापरायापन
ममममत्व
सर्वसर्वस्व
आपआपा
परायापरायापन
अपनाअपनापन
माममता

संज्ञा से भाववाचक संज्ञा

लड़कालडकपन
बूढ़ाबुढ़ापा
पंचपंचायत
नरनरत्व
शिष्यशिष्यत्व
पंडितपांडित्य
राष्ट्रराष्ट्रीयता
भारभारीपन
मातामातृत्व
गुरुगुरुता
पशुपशुत्व
ईश्वरईश्वर्य
मनुष्यमनुष्यता
वकीलवकालत
देवदेवत्व

क्रिया से भाववाचक संज्ञा

कमानाकमाई
लिखनालेख
खेलनाखेल
बनानाबनावट
भिड़नाभिडंत
लुटानालूट
उड़नाउड़ान
जितनाजीत
लिखनालिखावट
सींचनासिंचाई
मरनामरण
फैलानाफैलाव
लड़नालड़ाई
भूलनाभूल
महकनामहक

विशेषण से भाववाचक संज्ञा

बुद्धिमानबुद्धिमानी
अमीरअमीरी
क्रोधीक्रोध
मूर्खमूर्खता
कायरकायरता
गंभीरगंभीरता
गोरागोरापन
समसमता
तेजतेजी
हिंसकहिंसकता
बेईमानबेईमानी
गँवारगँवारपन
सुखदसुखदायी
एकएकता
शांतशांति

अव्यय से भाववाचक संज्ञा

समीपसामीप्य
परस्परपारस्पर्य
दूरदुरी
निकटनैकट्य
धिक्धिक्कार
मनामनाही
पूर्णपूर्णता

सारांश

ऐसे शब्द जिनसे हमें भावना का बोध होता हो, उन शब्दों को भाव वाचक संज्ञा कहते हैं। यानी वह शब्द जो किसी पदार्थ या फिर चीज का भाव, दशा या अवस्था का बोध कराते हो, उन्हें भाववाचक संज्ञा कहते हैं।

तो दोस्तों, आप भाव वाचक संज्ञा किसे कहते हैं Bhav Vachak Sangya Kise Kahate Hain. Bhav Vachak Sangya Example आप अच्छे से समज गए होंगे।

धन्यवाद

यह भी जरूर पढ़िए

Similar Posts

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments